Friday, November 17, 2017

पद्मावती

            पद्मावती
तुम याद करों राजस्थान का इतिहास
महाराणा  ने  रखा  यहाँ  पर उपहास।
मत भूलों तुम यहाँ की आन,बान शान
रानी  पद्मावती  का  रहा  था जो मान।
झुकने  नही  दिया  हो  गई  सती रानी
पद्मावती  की  रही  ऐसी  वो  कहानी।
वो तो ज्वाला थी जो आग में जल गई
कभी भगवा लहरा कर वो अब चल गई।
उसकी आन बान को तुम मिटाने चले
नया इतिहास ही तुम अब बनाने चले।
हम संस्क्रति   नही  बदनाम  होने देंगे
झूठा इतिहास  नही  बखान  होने देंगे।
मोहित

Tuesday, November 7, 2017

सन्तों की चरणों में स्थान मिलें

जब कल्पना को हकिगत की उड़ान मिलें ।

खुद  की  नजरों में खुद को पहचान मिलें ।

जिसकी  चरणों  में शांति का अहसास हो,

ऐसे  सन्तों  की  चरणों  में   स्थान  मिलें ।

मोहित

Tuesday, October 31, 2017

हर वक्त तुम से ही मोहब्बत करूँगा

गुरुदेव के जन्म दिन पर

आज मेरे गुरुदेव महंत दीपक पूरी जी का जन्मदिन है .....अभिनन्दन करता हूँ वंदन करता हूँ ...मेरे गुरुदेव का है जन्मदिन सबको सूचित करता हूं ..
दीपक बन के जग में वो आयें ।
रौशनी अपनी साथ वो लायें ।
अँधेरा हट गया हर फ़िजा से,
भगवान बन के आज वो छायें।

जग से हारे का तू साथ निभाता है ।
दीनों दुखियों का तू मान बढाता है।
संसार में भटक गये अपनी राह से,
उनकी अंगुली पकड़ राह दिखाता है।
मोहित
जय जय गुरुदेव

Saturday, October 28, 2017

बेटियों को बचाहियें

प्रकति को बचाना है तो बहती नदियों को बचाहियें ।
सभ्यता  को  बचाना है तो संस्कृतियो को बचाहियें ।
अगर खुद को हमको बचाना है तो सबसे पहले तो,
भूर्ण  हत्या  बन्ध  कर  हमारी बेटियों को बचाहियें।
मोहित

मेरी नजर तुमको देखना चाहती

मेरी नजर तुम्हें हर पल देखना चाहती है।
तेरी खुश्बू से ये आज महकना चाहती है।
अरे तुम भी आज मुझे अपने गलें से लगा दो,
अब साँसे तेरी सासों से मिलना चाहती है ।

मोहित

Friday, October 20, 2017

दिवापली


हर खता भूल कर दुश्मन को गले लगायें ।
प्यार का दीया हम अपने दिल मे जलायें ।
दीप  शिखा  रौशनी  का  ये पावन पर्व है,
आहों मिल कर हम सभी दीवाली मनायें ।
मोहित जागेटिया